गंगोत्री धाम में तीर्थ पुरोहितों का आंदोलन तेज, 15 अगस्त तक प्रवेश द्वार बंद ।Postmanindia

Help spreading this news
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उत्तरकाशी गंगोत्री धाम में आज से गंगोत्री रावल पुरोहित किसी यात्री को धाम में प्रवेश नहीं करने देंगे. आज से 15 अगस्त तक गंगोत्री धाम बन्द रहेगा. इसके लिए बीते मंगलवार को गंगोत्री के रावल पुरोहितों ने एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा है. रावल तीर्थ पुरोहित लगातार चारधाम यात्रा का विरोध कर रहे है, गंगोत्री तीर्थ पुरोहित रजनीकांत सेमवाल का कहना है कि लगातार उत्तरकाशी जनपद सहित उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे है और उत्तराखंड सरकार चारधाम यात्रा को बाहरी प्रदेश के लोगों के लिए खोल रही है. आखिर सरकार की बुद्धि को क्या हो गया है और सरकार सुरक्षित धामों में कोरोना संक्रमण फैलना चाहती है.

वहीं रावल तीर्थ पुरोहित देवस्थानम एक्ट और यात्रा के विरोध में पिछले 35 दिनों से गंगोत्री धाम में धरने पर बैठे है. इसलियॆ गंगोत्री धाम के सभी रावल पुरोहितों ने ये निर्णय लिया है आज से किसी भी यात्री को गंगोत्री धाम में प्रवेश नहीं करने देंगे और कल से गंगोत्री धाम का मुख्य द्वार गंगोत्री के रावल पुरोहित बन्द कर देंगे.

इधर देवस्थानम बोर्ड के खिलाफ तीर्थ पुरोहितों का गुस्सा थमने का नाम नहीं ले रहा है. बीते सोमवार को अपने तयशुदा कार्यक्रम के अनुसार केदारनाथ धाम से जुड़े सैकड़ों तीर्थ पुरोहितों ने मंदिर परिसर में एकत्रित होकर बोर्ड गठन का पुरजोर विरोध किया. इस दौरान तीर्थ पुरोहितों ने सरकार के विरोध में नारे भी लगाए. सभा के अध्यक्ष विनोद शुक्ला ने कहा कि जब तक राज्य सरकार देवस्थानम बोर्ड को खत्म नहीं करती है तब तक उनका धरना प्रदर्शन जारी रहेगा.


Help spreading this news
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Facebook Comments

error: Content is protected !!