कैलाश के लिए बाबा केदार की डोली का प्रस्थान,आज पहुची गौरीकुंड । Postmanindia

Help spreading this news
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उत्तराखंड की सुप्रसिद्ध चार धाम में से एक केदारनाथ धाम के कपाट आगामी 29 अप्रैल को ही खुलने जा रहे हैं. देश दुनिया समेत उत्तराखंड में भी कोरोना संक्रमण असर देखने को मिल रहा है इसी असर के चलते 24 साल बाद ऐसा मौका आया किस बाबा केदार कि चल विग्रह डोली के साथ ना तो आर्मी के बैंड की धुन सुनाई दी ना केदार के जयकारों का उद्घोष जी हां 29 अप्रैल को सुबह 6:10 पर केदारनाथ धाम के कपाट खुलने है इसी क्रम में बेहद साधारण आयोजन के साथ आज सुबह 5 बज के 40 मिनट पर बाबा केदार की पंचमुखी डोली उखीमठ के ओमकारेश्वर मंदिर से केदारनाथ धाम के लिए रवाना हो चुकी है डोली आज रात्रि प्रवास के लिए गौरीकुंड पहुंचेगी

केदारनाथ विधायक मनोज रावत ने बताया कि केदारबाबा की पंचमुखी डोली के गाड़ी के ज़रिए शीतकालीन गद्दी स्थल से रवाना हो चुकी है. इस बार पहले दिन सीधे गाड़ी से डोली गौरीकुंड जाएगी जबकी दूसरे दिन यानी 27 को गौरीकुंड से डोली पैदल ले जायी जाएगी. 28 अप्रैल को डोली केदारनाथ धाम पहुँचेगी.

कहने को तय तिथि पर केदारनाथ धाम के कपाट खुलेंगे, यात्रा भी शुरू होगी, लेकिन भक्त अपने आराध्य के दर्शन नहीं कर पाएंगे. 29 अप्रैल को केदारनाथ धाम के कपाट खुलने हैं. आज बाबा केदार की उत्सव डोली को पैदल न जाकर ऊखीमठ से वाहन के जरिए सीधे गौरीकुंड पहुचेगी. तय कार्यक्रम के अनुसार 29 अप्रैल को सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर मेष लग्न में मंदिर के कपाट खोले जाएंगे. बाबा केदार की डोली को वाहन से सीधे सोनप्रयाग ले जाए जाने की वजह से मार्ग में भक्त डोली के दर्शन नहीं कर सकेंगे. अमूमन पंचमुखी डोली को पैदल ले जाया जाता था, कहा जा रहा है कोराना की सावधानी को लेकर यह कदम उठाया गया हैं.

kedarnath door opening

कपाट खुलने के दौरान मंदिर में मुख्य पुजारी समेत सिर्फ 16 लोग ही मौजूद रहेंगे.इधर कपाट खुलने को लेकर तैयारी ज़ोरों पर है. केदारनाथ धाम में रास्ते की बर्फ सफाई का अभियान जारी है और मंदिर तक के रास्ते की बर्फ हटा दी गयी है. अब मंदिर तक आदमियों और घोड़े खच्चरों का आना जाना संभव हो पा रहा है. केदारनाथ धाम में बिजली की व्यवस्था भी सुचारू रूप से चल रही है


Help spreading this news
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Facebook Comments

error: Content is protected !!