बक़रीद से लेकर जन्माष्टमी तक दिखेगी पुलिस की सख़्ती, IG गढ़वाल ने दिए ये निर्देश |Postmanindia

Help spreading this news
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उत्तराखंड में इस साल आने वाले त्यौहार/पर्व जैसे ईद-उल-जुहा(बकरीद), रक्षाबन्धन, जन्माष्टमी एवं स्वतंत्रता दिवस के आयोजन जहां कोरोना की वजह से फीके नजर आएँगे वहीं इन आयोजनों पर पुलिस की भी सख़्त नजर रहेगी. उत्तराखंड पुलिस के गढ़वाल रेंज के IG अभिनव कुमार सिंह ने कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत संक्रमणरहित, शान्ति एवं सौहार्दपूर्वक सम्पन्न कराने के लिए ज़िलों को कप्तानों को विस्तरित दिशा-निर्देश जारी किये हैं. IG द्वारा जारी आदेश में गृह मंत्रालय भारत सरकार एंव राज्य सरकार द्वारा Unlock की की गाइड लाइन का हवाला देते हुए आगामी पर्व/त्यौहारो को संक्रमणरहित, शान्ति एवं सौहार्दपूर्ण वातावरण में सम्पन्न कराने हेतु निर्देशित किया गया है.

ये भी पढ़ें: उत्तराखंड में कल का कोरोना अपडेट, हरिद्वार में स्थिति चिंताजनक

आइजी रेंज अभिनव कुमार ने बताया कि धार्मिक स्थलों के प्रतिबन्धों के साथ खुलने के क्रम में धार्मिक स्थलों में श्रृद्धालुओं की निर्धारित संख्या होने के साथ साथ सोशल डिस्टेन्सिंग , मास्क, सैनेटाइजिंग आदि का पालन सुनिश्चित करवाया जाएगा. इसके साथ ही सभी धार्मिक स्थलों के धर्मगुरुओं, मौलवियों, ग्रन्थियों एवं पादरियों आदि से थाना स्तर पर सम्पर्क कर कोविड-19 सम्बंधी निर्देश दिए जाएगे. धार्मिक स्थलों में जाने वाले श्रृद्धालुओं की निर्धारित संख्या, मास्क का प्रयोग, सैनेटाइजिंग की व्यवस्था आदि के सम्बन्ध में प्रचार-प्रसार कराने हेतु थाना स्तर पर गोष्ठी का आयोजन किया जाए.

ये भी पढ़ें: उत्तराखंड में 2500 पदों पर बंपर भर्ती जल्द

त्यौहारो/पर्वो के अवसर पर नियुक्त किये जाने वाले पुलिस बल को भी कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के सम्बन्ध में बरती जाने वाली सावधानियों से भली-भांति ब्रीफ कर बचाव एवं रोकथाम के उपकरण (मास्क, सैनीटाईजर, पीपीई किट आदि) की उपलब्धता सुनिश्चित की जाये. कोरोना ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों को अनिवार्य रूप से मास्क लगाने, हाथ धोने अथवा सैनेटाइज करने, सोशल डिस्टैन्सिंग का पालन करने के साथ ही समय-समय पर योग प्रशिक्षण व रोगप्रतिरोधक क्षमता बढाने सम्बन्धी काढ़ा/पेय पदार्थ प्रयोग करने हेतु भी प्रोत्साहित किया जायेगा साथ ही अनावश्यक रुप से अधिक पुलिस बल नियुक्त न कर ऐसे स्थानों को चिन्हित कर आवश्यकता के अनुरूप ही सीमित संख्या में तैनाती की जाएगी.


Help spreading this news
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Facebook Comments

error: Content is protected !!