पहाड़ी गानों की धुन पर थिरके देश 23 IAS अफसर देखें वीडियो । Postmanindia

Help spreading this news
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उत्तराखंड की कला संस्कृति ऐसी है जिसे देख हर कोई दीवाना हो जाए. पहाड़ की आबोहवा संस्कृति के साथ गीत संगीत का ऐसा संगम है कि आम हो या खास हर कोई थिरकने पर मजबूर हो जाए. देश के 23 IAS अफ़सर उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश की सीमा से लगे हुए चाइन्शील ट्रेक की खूबसूरती को देखने के लिए पहुँचा. बार लाल बहादुर शास्त्री प्रशासनिक अकादमी मसूरी के ट्रेनी आईएएस अधिकारियों के दल ने 6 नवम्बर से अपने ट्रेक की शुरुवात की इस ट्रेक के दौरान ट्रेनी आईएएस अफसर अपने आपको पहाड़ी गानों में थिरकने से नहीं रोक पाए. इन दिनों सोशल मीडिया पर यह विडीओ खूब वायरल हो रहा है.

दरसल ट्रेनी आईएएस अधिकारियों का कहना है कि मसूरी में ट्रेनिंग करने के दौरान उन्होंने उत्तराखंड के कई हिस्सों को भौगोलिक और सांस्कृतिक तौर पर जाना है. चाइन्शील बहुत सुंदर ट्रेक है जहां आपको प्रकृति के सुंदर सुंदर नजारों के साथ स्थानीय लोगों की संस्कृति को भी जानने का मौका मिलता है. पर्यटकों को इस क्षेत्र में आना चाहिए और यहां के खूबसूरत ट्रैक का लुफ्त उठाना चाहिए. इस ट्रैक की शुरुवात सीमांत क्षेत्र बलावत से होती है. जहां आप स्थानीय लोगों के होम स्टे में रात्रि विश्राम भी कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें: त्रिवेंद्र कैबिनेट ने लगाई 11 प्रस्तावों पर मुहर, एक नजर में पढ़ें पूरी जानकारी

लाल बहादुर शास्त्री प्रशासनिक अकादमी के ट्रेनी आईएएस अधिकारियों का कहना है कि उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में बहुत अपार संभावनाएं हैं. पर्यटन के लिए कई ऐसे स्थान हैं जिन्हें और अगर विकसित किया जाता है तो बड़ी संख्या में पर्यटक यहां पहुंचेंगे. ट्रेनी आईएएस अधिकारियों का कहना है कि जिस तरह स्थानीय लोगों के द्वारा पर्यटक को की मेहमान नवाजी की जाती है वह तारीफ के काबिल है. स्थानीय लोगों की संस्कृति को करीब से जानने का मौका उन्हें इस ट्रेक के दौरान मिला है.

ये भी पढ़ें: प्रदेश के 15 हजार शिक्षकों को राहत, पढ़ें पूरी खबर


Help spreading this news
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Facebook Comments

error: Content is protected !!