30.2 C
Dehradun
Thursday, July 18, 2024

रुद्रप्रयाग, टिहरी और उत्तरकाशी में बादल फटने से तबाही का अंबार, पढ़ें पूरी खबर |Postmanindia

उत्तराखंड के रूद्रप्रयाग, टिहरी और उत्तरकाशी जिले में बादल फटने की खबरें सामने आई है. टिहरी और उत्तरकाशी में बादल फटने से इस क्षेत्र में बाढ़ जैसी स्थिति हो गई है. बादल फटने से इस क्षेत्र में कई गोशालाएं ध्वस्त हो गईं. जिनमें कई मवेशी दब गए. साथ ही बड़े पैमाने पर कृषि भूमि तबाह हो गई. सोमवार शाम को उत्तरकाशी जनपद में हुई अतिवृष्टि के कारण चिन्यालीसौड़ तहसील के कुमराडा गांव में आसमान से ऐसी आफत बरसी कि ग्रामीणों के होश उड़ गए. अतिवृष्टि के कारण गांव के नदी नाले उफान पर आने के कारण अचानक गांव में पानी के साथ भारी मलबा घुस आया. जिसमें 3 मवेशी जमीदोंज हो गए तो वहीं 20 मकानों में मलबा घुस गया और एक मकान पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया.

प्रभावित परिवारों को राजस्व पुलिस की ओर से सुरक्षित स्थान पर शिफ्ट करने की कार्यवाही की जा रही है. बारिश के चलते पानी के साथ कई टन मलबा गांव के ऊपर करीब 3 किमी की दूरी से उफान पर आए नदी नालों के कारण पूरे गांव के घरों में घुस गया. एक छत पूरा तालाब में तब्दील हो गया और छत से एक झरने के रूप में बहकर घरों में घुसा. ग्राम प्रधान कुमराडा विनोद पुरसोड़ा ने बताया कि गांव के कई आंगन मलबे में बह गए हैं. तो गांव में अंधेरा होने के कारण नुकसान का पूरा आकलन अभी नहीं मिल पाया है. लेकिन भवनों मवेशियों के साथ फसल को भी बहुत नुकसान हुआ है. राजस्व उपनिरीक्षक कुसुम पंवार ने बताया प्रारम्भिक मौका मुआयना के अनुसार 2 भैंस 1 बकरी मलबे में दब गई है और 4 भैंसे घायल हुई है. घटना में कोई जनहानि नहीं है. करीब 20 घरों में मलबा घुसा है. साथ ही 1 भवन पूर्ण क्षतिग्रस्त हुआ है. नायाब तहसीलदार प्रताप सिंह चौहान ने बताया कि राजस्व विभाग की टीम मौके पर नुकसान का आकलन कर रही है. प्रभावित ग्रामीणों को मदद दी जा रही है. पूरे नुकसान आकलन की रिपोर्ट तैयार कर प्रशासन और शासन को भेजी जा रही है. आपदा प्रबधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल का कहना है कि एसडीआरएफ भी मौके पर पहुंच रही है.

गांव की सड़कों पर मलबा आने के कारण मार्ग बंद है जिसके चलते प्रशासन की टीम को गांव तक पहुंचने में दिक्कतों का सामन करना पड़ रहा है. लेकिन आपात स्थिति को देखते हुए प्रशासन की टीम पैदल ही घटना स्थल पर पहुंच रही है. जबकि राजस्व उपनिरीक्षक कुसुम पंवार मौके पर मौजूद. जो ग्रामिणों के साथ मौके का जायजा ले रही है. टिहरी में भी बादल फटने से भारी नुकसान की खबर है. रुद्रप्रयाग,टिहरी और उत्तरकाशी में बादल फटने की घटनों के बीच शासन-प्रशासन की टीमों इन क्षेत्रों के रवाना हो गई है. मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इन तीनों जिलों के जिलाधिकारियों को फोन के माध्यम से ताज स्थिति की जानकारी लेते हुए प्रभावित ग्रामीणों तक जल्द से जल्द मदद पहुंचाने के निर्देश दिए है. आपको बता दें कि मौसम विभाग ने उत्तराखंड में भारी बारिश की चेतावनी जारी की थी. रूद्रप्रयाग,टिहरी और उत्तरकाशी जिले में पिछले दिनों से हो रही लगातार बारिश से इन जिलों में भारी नुकसान की खबरें आ रही है.

यह भी पढ़ें: शिक्षा मंत्री ने ली कोविड सम्बंधी महत्वपूर्ण बैठक, दिए महत्वपूर्ण निर्देश

spot_img

Related Articles

spot_img

Latest Articles

जम्मू-कश्मीर के डोडा में फिर मुठभेड़ शुरू, कास्तीगढ़ इलाके में आमना-सामना; सेना के दो...

0
जम्मू: जम्मू-कश्मीर के डोडा में फिर मुठभेड़ शुरू हो गई है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के अनुसार अब कास्तीगढ़ इलाके में सुरक्षाबल और आतंकी आमने-सामने हैं।...

उत्तराखंड व हिमाचल में चार दिन भारी बारिश के आसार

0
नई दिल्ली: पहाड़ से लेकर मैदान तक मानसूनी बारिश और बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है। हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और जम्मू में भारी बारिश...

मुहर्रम के जुलूस में कई जगह लहराए गए फलस्तीनी झंडे

0
नई दिल्ली। मुहर्रम के मौके पर बुधवार को निकाले गए जुलूस के दौरान कुछ राज्यों में फलस्तीन के झंडे लहराए गए। इतना ही नहीं,...

कानून मंत्रालय ने सौ दिवसीय एजेंडे में की ‘सनसेट क्लॉज’ की पैरवी

0
नई दिल्ली। कानून की किताबों को व्यवस्थित रखने के लिए कानून मंत्रालय ने कुछ प्रकार के विधेयकों में 'सनसेट क्लॉज' या स्वत: समाप्त होने...

जलवायु वित्त लक्ष्य पर विवादों को सुलझाने के लिए राजनीतिक दिशा की जरूरत

0
नई दिल्ली: साल 2025 के बाद विकासशील देशों के जलवायु कार्यों का समर्थन करने के लिए एक नए वित्तीय लक्ष्य पर असहमति हल करने...