30.2 C
Dehradun
Thursday, July 18, 2024

11 बार सेवा विस्तार पाने वाले IAS अफसर केके हुए रिटायर

अहमदाबाद। गुजरात प्रशासनिक अमले के आईएएस अफसर के. कैलाशनाथन करीब साढ़े चार दशक की सेवा के बाद सेवानिवृत्त हो गए। वर्ष 2009 में मुख्यमंत्री कार्यालय में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव के पद पर नियुक्त हुए कैलाशनाथन को 2013 में सेवानिवृत्त होने के बाद 11 बार सेवा विस्तार मिला।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के करीबी के. कैलाशनाथन सत्ता के गलियारे में केके के नाम से चर्चित आईएएस हैं। वर्ष 1979 बैच के अधिकारी हैं। 2009 से लगातार वह गुजरात के मुख्यमंत्री कार्यालय में तैनात रहे। इस कार्यकाल में वह हमेशा राज्य सरकार और मुख्यमंत्री के मजबूत स्तंभ बनकर खड़े रहे।
प्राकृतिक आपदा हो या राजनीतिक संकट केके के पास हर संकट का हल होता था। पीएम मोदी के अलावा कैलाशनाथन ने तीन अन्य मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल, विजय रुपाणी तथा भूपेंद्र पटेल के साथ काम किया। लगातार 11 सेवा विस्तार के बाद 29 जून को उनके अंतिम कार्यदिवस पर विदाई दी गई। खबर है कि उनके विदाई समारोह में कुछ ही अधिकारी शामिल हुए। एक भी मंत्री वहां मौजूद नहीं रहा। सत्ता के गलियारों में चर्चा यह भी है कि गुजरात भाजपा अध्यक्ष एवं सांसद सीआर पाटिल के दिल्ली में कैबिनेट मंत्री का पद संभालते ही कैलाशनाथन की उलटी गिनती शुरू हो गई थी।

spot_img

Related Articles

spot_img

Latest Articles

जम्मू-कश्मीर के डोडा में फिर मुठभेड़ शुरू, कास्तीगढ़ इलाके में आमना-सामना; सेना के दो...

0
जम्मू: जम्मू-कश्मीर के डोडा में फिर मुठभेड़ शुरू हो गई है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के अनुसार अब कास्तीगढ़ इलाके में सुरक्षाबल और आतंकी आमने-सामने हैं।...

उत्तराखंड व हिमाचल में चार दिन भारी बारिश के आसार

0
नई दिल्ली: पहाड़ से लेकर मैदान तक मानसूनी बारिश और बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है। हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और जम्मू में भारी बारिश...

मुहर्रम के जुलूस में कई जगह लहराए गए फलस्तीनी झंडे

0
नई दिल्ली। मुहर्रम के मौके पर बुधवार को निकाले गए जुलूस के दौरान कुछ राज्यों में फलस्तीन के झंडे लहराए गए। इतना ही नहीं,...

कानून मंत्रालय ने सौ दिवसीय एजेंडे में की ‘सनसेट क्लॉज’ की पैरवी

0
नई दिल्ली। कानून की किताबों को व्यवस्थित रखने के लिए कानून मंत्रालय ने कुछ प्रकार के विधेयकों में 'सनसेट क्लॉज' या स्वत: समाप्त होने...

जलवायु वित्त लक्ष्य पर विवादों को सुलझाने के लिए राजनीतिक दिशा की जरूरत

0
नई दिल्ली: साल 2025 के बाद विकासशील देशों के जलवायु कार्यों का समर्थन करने के लिए एक नए वित्तीय लक्ष्य पर असहमति हल करने...