30.2 C
Dehradun
Thursday, July 18, 2024

प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में रिक्त 394 पदों पर जल्द होगी भर्ती |Postmanindia

राज्य विश्वविद्यालयों में वर्षों से रिक्त चल रहे शैक्षणिक एवं शिक्षणेत्तर पदों पर तीन माह के भीतर भर्ती की जायेगी. जबकि एक माह के भीतर सभी विश्वविद्यालयों को डीजी लाॅकर की सुविधा उपलब्ध करानी होगी. विश्वविद्यालयों का दीक्षांत समारोह माह अक्टूबर में आयोजित किया जायेगा. एसबीएस महाविद्यालय रूद्रपुर को कुमाऊं विश्वविद्यालय नैनीताल का नया परिसर बनाया जायेगा. उपरोक्त निर्णय उच्च शिक्षा, सहकारिता, प्रोटोकाॅल एवं आपदा प्रबंधन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा. धन सिंह रावत की अध्यक्षता में आज विधानसभा स्थित सभागार में आयोजित राज्य विश्वविद्यालयों की समीक्षा बैठक में लिये गये. डा. रावत ने बताया कि सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को वर्षों से रिक्त चल रहे शैक्षणिक एवं शिक्षणेत्तर पदों को तीन माह के भीतर भरने, अक्टूबर माह में दीक्षांत समारोह आयोजित करने तथा विश्वविद्यालयों में एक माह के भीतर डीजी लाॅकर की व्यवस्था उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये हैं. वर्तमान में राज्य के विश्वविद्यालयों में शिक्षकांे के 206 तथा शिक्षणेत्तर कार्मिकों के 188 पद रिक्त चल रहे हैं.

जिन पर रिक्त नियुक्ति प्रक्रिया शुरू कर तीन माह के भीतर भर्ती करने के निर्देश दिये है. बैठक में निर्णय लिया गया है कि एसबीएस महाविद्यालय रूद्रपुर को कुमाऊं विश्वविद्यालय का नया परिसर बनाया जायेगा. जिसके लिए कुलपति शासन को शीघ्र प्रस्ताव भेजेंगे. कुमाऊं विश्वविद्यालय एवं सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा में शैक्षणिक एवं शिक्षणेत्तर पदों के बंटवारे के लिए प्रभारी सचिव उच्च शिक्षा विनोद रतूड़ी एवं दोनों विश्वविद्यालय के कुलपतियों की समिति गठित की गई है. जो शीघ्र प्रस्ताव तैयार कर शासन को सौंपेगी. बैठक में निर्णय लिया गया है कि श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय को ऋषिकेश परिसर में एक माह के भीतर नए निर्माण कार्य प्रारम्भ करने होंगे. यह भी निर्णय लिया गया है कि सभी विश्वविद्यालय प्रथम सेमेस्टर एवं अंतिम सेमेस्टर के साथ ही प्रथम वर्ष एवं अंतिम वर्ष की ही परीक्षाएं आयोजित करायेंगे. शेष छात्रों को गत वर्ष की भांति प्रोन्नत किया जायेगा. विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों को खोले जाने के संबंध में सरकार शीघ्र निर्णय लेगी. बैठक में सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों ने अपने-अपने संस्थानों की प्रगति रिपोर्ट एवं समस्याएं रखी, जिनका बैठक में ही समाधान निकालते हुए शासन से पत्राचार के निर्देश दिये गये.

अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा आनंद बर्द्धन ने कहा कि विश्वविद्यालयों के शासन स्तर पर लम्बित सभी प्रकरणों का दो सप्ताह के भीतर निस्तारण कर दिया जायेगा. उन्होंने कहा कि श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय एवं सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा में शीघ्र स्थाई कुलसचिवों की तैनाती कर दी जायेगी. बैठक में अपर मुख्य सचिव आनंद वर्द्धन, कुलपति उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय प्रो0 ओ.पी.एस. नेगी, कुलपति श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय डा. पी.पी. ध्यानी, कुलपति सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय प्रो. एन.एस.भंडारी, कुलपति कुमाऊं विश्वविद्यालय प्रो. एन.के. जोशी, कुलपति दून विश्वविद्यालय प्रो. सुरेखा डंगवाल, निदेशक उच्च शिक्षा डा. कुमकुम रौतेला, सलाहकार रूसा प्रो. के.डी. पुरोहित, प्रो. एम.एस.एम रावत, अपर सचिव उच्च शिक्षा एम.एम. सेमवाल, संयुक्त निदेशक उच्च शिक्षा डा. पी.के.पाठक, कुलसचिव दून विवि डा. एम.एस. मंद्रवाल, कुलसचिव श्रीदेव सुमन विवि डा. एम.एस. रावत, अनु सचिव उच्च शिक्षा ब्योमकेश दुबे, उप कुलसचिव ओपन यूनिवर्सिटी डा. विमल मिश्रा सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद रहे.

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड पुलिस को कल मिलेंगे 17 नए जोशीले अधिकारी

spot_img

Related Articles

spot_img

Latest Articles

जम्मू-कश्मीर के डोडा में फिर मुठभेड़ शुरू, कास्तीगढ़ इलाके में आमना-सामना; सेना के दो...

0
जम्मू: जम्मू-कश्मीर के डोडा में फिर मुठभेड़ शुरू हो गई है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के अनुसार अब कास्तीगढ़ इलाके में सुरक्षाबल और आतंकी आमने-सामने हैं।...

उत्तराखंड व हिमाचल में चार दिन भारी बारिश के आसार

0
नई दिल्ली: पहाड़ से लेकर मैदान तक मानसूनी बारिश और बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है। हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और जम्मू में भारी बारिश...

मुहर्रम के जुलूस में कई जगह लहराए गए फलस्तीनी झंडे

0
नई दिल्ली। मुहर्रम के मौके पर बुधवार को निकाले गए जुलूस के दौरान कुछ राज्यों में फलस्तीन के झंडे लहराए गए। इतना ही नहीं,...

कानून मंत्रालय ने सौ दिवसीय एजेंडे में की ‘सनसेट क्लॉज’ की पैरवी

0
नई दिल्ली। कानून की किताबों को व्यवस्थित रखने के लिए कानून मंत्रालय ने कुछ प्रकार के विधेयकों में 'सनसेट क्लॉज' या स्वत: समाप्त होने...

जलवायु वित्त लक्ष्य पर विवादों को सुलझाने के लिए राजनीतिक दिशा की जरूरत

0
नई दिल्ली: साल 2025 के बाद विकासशील देशों के जलवायु कार्यों का समर्थन करने के लिए एक नए वित्तीय लक्ष्य पर असहमति हल करने...