30.2 C
Dehradun
Thursday, July 18, 2024

कांग्रेस विधानमंडल दल की बैठक आज, गढ़वाल-कुमाऊ के संतुलन के बीच नेता प्रतिपक्ष और अध्यक्ष का होगा चयन |Postmanindia

उत्तराखंड में 2022 के चुनाव से ठीक पहले दिल्ली में आज कांग्रेस विधायक मंडल दल की बैठक आयोजित की गई है. इस बैठक में नेता प्रतिपक्ष के अलावा प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव को लेकर भी विधायकों से मशवरा किया जाएगा. कांग्रेस के सामने चुनाव से ठीक पहले सबसे बड़ी चुनौती है गढ़वाल और कुमाऊं के बीच प्रतिनिधित्व देने की है, साल 2017 के चुनाव में देखने को मिला था क्या गढ़वाल से कॉग्रेस बुरी तरह हार गई थी रुद्रप्रयाग, चमोली, टिहरी और उत्तरकाशी इन चार पहाड़ी जिलों की बात की जाए तो इसमें सिर्फ केदारनाथ और पुरोला से ही कांग्रेस जीत कर आई थी.

जबकि 3 सीटें हैं हरिद्वार एक देहरादून और बाकी 5 सीट कुमाऊ से कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी. लिहाजा इस बार कुमाऊ के साथ-साथ गढ़वाल का संतुलन साधना भी बेहद जरूरी है. कांग्रेस के सह प्रभारी राजेश धर्मानी का कहना है कि कांग्रेस सभी पहलुओं पर विचार कर रही है और गढ़वाल कुमाऊं का प्रतिनिधित्व देने के साथ युवाओं और महिलाओं को भी विशेष जगह देने पर विशेष विचार किया जाएगा.

वहीं कांग्रेस के केदारनाथ से विधायक मनोज रावत का कहना है पार्टी फोरम पर वह इस बात को मजबूती से रखेंगे की गढ़वाल का प्रतिनिधित्व पार्टी दूरदर्शीता और 2022 के चुनाव को लेकर देखे. मनोज रावत का कहना है कि गढ़वाल क्षेत्र में भी कई बड़े नेता पार्टी में लगातार सक्रियता से काम कर रहे हैं, इन सभी को सरकार चलाने का भी अनुभव लंबे समय तक रहा है लिहाजा इन सब बातों का भी कांग्रेस हाईकमान को ध्यान रखना चाहिए.

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में 6 जुलाई तक बढ़ा कोविड कर्फ़्यू, वीकेंड पर खुलेंगे पिकनिक स्पॉट

spot_img

Related Articles

spot_img

Latest Articles

जम्मू-कश्मीर के डोडा में फिर मुठभेड़ शुरू, कास्तीगढ़ इलाके में आमना-सामना; सेना के दो...

0
जम्मू: जम्मू-कश्मीर के डोडा में फिर मुठभेड़ शुरू हो गई है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के अनुसार अब कास्तीगढ़ इलाके में सुरक्षाबल और आतंकी आमने-सामने हैं।...

उत्तराखंड व हिमाचल में चार दिन भारी बारिश के आसार

0
नई दिल्ली: पहाड़ से लेकर मैदान तक मानसूनी बारिश और बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है। हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और जम्मू में भारी बारिश...

मुहर्रम के जुलूस में कई जगह लहराए गए फलस्तीनी झंडे

0
नई दिल्ली। मुहर्रम के मौके पर बुधवार को निकाले गए जुलूस के दौरान कुछ राज्यों में फलस्तीन के झंडे लहराए गए। इतना ही नहीं,...

कानून मंत्रालय ने सौ दिवसीय एजेंडे में की ‘सनसेट क्लॉज’ की पैरवी

0
नई दिल्ली। कानून की किताबों को व्यवस्थित रखने के लिए कानून मंत्रालय ने कुछ प्रकार के विधेयकों में 'सनसेट क्लॉज' या स्वत: समाप्त होने...

जलवायु वित्त लक्ष्य पर विवादों को सुलझाने के लिए राजनीतिक दिशा की जरूरत

0
नई दिल्ली: साल 2025 के बाद विकासशील देशों के जलवायु कार्यों का समर्थन करने के लिए एक नए वित्तीय लक्ष्य पर असहमति हल करने...